History of Computer in Hindi

आज मनुष्य जिसके बिना रह नहीं सकता, Calculation, Bank work, Companies,  Study आदि  काम को जिससे बहुत आसानी से कर लिया जाता तथा जिसको आज मनुष्य हर समय अपने हाथ में रखता है। उसी Computer का पूरा इतिहास आज हम जानेगे। 


वास्तव में,  Computer एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक यन्त्र है। जो अगर  खो जाये तो बहुत कुछ खो जायेगा। लेकिन क्या आप जानते है। ये इतनी आसानी से नहीं बना इसे बनाने में कई पीढ़िया गुजर गयी। कितने ज्ञानी- ज्ञानी वैज्ञानिक अपना योगदान देते रहे तब जाकर धीरे-धीरे इसमें परिवर्तन होता रहा। और आज ये Mobile के रूप में हमारी आँखों के सामने हर समय रहता है। आज का ये लेख बहुत ज्यादा रोचक होने वाला है। क्युकी इसमें संपूर्ण History of Computer in Hindi ( Computer का इतिहास ) जानने को मिलेगा। 

History of Computer in Hindi 

Computer को बनने में कई Generation से गुजरना पड़ा है। जो पहली Generation का Computer था। वो एक पूरे कमरे में आ पाता था। वो इतना भयानक यन्त्र था। जिसकी आप कल्पना तक नहीं कर पाते। तो क्यों नहीं आप जानना चाहेंगे ? कैसे इसकी Technology में Changes किये गए तब जाकर आज ये यहाँ तक पंहुचा है। तो चलिए अब हम जानते है। History of Computer in Hindi

अगर हम Computer के इतिहास की बात करे तो ये हमें कई शताब्दियो पीछे ले जाता है। जब संपूर्ण विस्व में गणना करने के लिए कोई भी यन्त्र मौजूद न था।  फिर एक यन्त्र बना जिसका नाम Abacus था। ये बात लगभग आज से 5 ,000 वर्ष पुरानी है। Abacus ही वो पहला यन्त्र था जिसके माध्यम से जोड़ घटाना आदि किया जाता था। 

Abacus


                                             
Abacus एक आयताकार फ्रेम था जिसमे कुछ लम्बी लम्बी नाली थी और उसमे माला बाले मोती यानि छर्रे होते थे। जिनको घुमाया खिसकाया इधर-उधर किया जा सकता था।  बस इसी के माध्यम से इससे जोड़ सकते थे। और व्यापारी इसमें  मोतियों पे नजर रखकर अपना व्यापर करते थे।  Abacus आज भी School आदि में Use किया जाता है। जिसके माध्यम से छोटे बच्चो को गिनतियाँ आदि सिखाई जाती है। इसका अविष्कार चीन में हुआ था।

Napier's Bones

ये गणना करने का दूसरा उपकरण था। जिसका अविष्कार सन 1616 ई0 में हुआ था। इसे Scottish के mathematician John Napier ने बनाया था। इसके माध्यम से जोड़, घटाना, गुणा, भाग आदि किया जा सकता था। ये भी एक आयताकार आकर का था। जिसमे सभी छडे थी। इससे calculation Manipulation of rods with printed Digit के आधार पे होती थी। 

Pascal 

17वी शताब्दी में सन 1642 इ0 में पहली Counting machine का अविष्कार हुआ जिसका नाम पास्कलाइन था।  जिसे Frenchman, Blaise Pascal, ने बनाया था। Blaise Pascal एक Tax collector के बेटे थे। वो बहुत साडी गणनाये किया करते थे। अपनी गणनाओ को आसान बनाने के लिए उन्होंने इस Machine को बनाया था। यह machine उन्होंने पहियों के आधार पर किया था। इसमें 10 पहिये थे जिसमे अंक थे। एक पहिये को घूमने पर सभी पहिये घूमते थे। इस Machine में पहियों को संचालित करने के लिए डाइलिंग सिस्टम का use किया गया था। ये machine Abacus, Napier's Bones से अधिक तेजी से काम करती थी।

Pascal पहला Calculator यन्त्र माना जाता है। यही से शुरु होती है Computer की कहानी। Computer के अविष्कार में Blaise Pascal की प्रमुख भूमिका रही है। इस machine को उन्होंने 19 वर्ष की आयु में बनायीं थी। उन्होंने बहुत सी किताबे लिखी तथा भौतिकी में भी उन्होंने योगदान दिया।इस machine को उन्होंने 19 वर्ष की आयु में बनायीं थी। उन्होंने बहुत सी किताबे लिखी तथा भौतिकी में भी उन्होंने योगदान दिया।

Charles Babbage (Computer अविष्कारक)

सन 1822  ई ० में ब्रिटिश के रहने वाले Charles Babbage ने एक इंजन बनाया। जो बहुत सारी गणनाये कर सकता था। यह पहला मकैनिकल इंजन भी था। उन्होंने इस इंजन का अविष्कार किया था। लेकिन  ज्यादा धन पास न होने के कारण उन्होंने पूरी तरह से बना नहीं  पाया। उन्होंने बताया था। की मशीन इनपुट उपकरणों का उपयोग करेगी और उसमे ''मिल'' नामक एक उपकरण होगा। जिसके  माध्यम से गणना कर सकेंगे।  इस Engine को Analytical Engine के नाम से जाना जाता था।

आज के जो Computer है।  वो सभी Charles Babbage के आधार पर ही बनाये गए है।  इसलिए Charles Babbage को Computer का जनक कहा जाता है। 

ABC Computer
सन 1937 ई० में Dr John Atanstoff के द्वारा एक Electronic Digital Machine बनायीं गयी ये Machine Computer Development के लिए एक Foundation Technology मानी गयी। वैसे तो इसको कुछ लोग पहला Computer मानते है| लेकिन इसपे आज भी बहस होती रहती है| क्युकी ये वो machine थी। जो न तो Programmable थी और न ही पूर्ण। इसलिए इसको पहला Computer नहीं माना  गया है। इसके बाद जो कंप्यूटर बना वो पहला कंप्यूटर था।

Eniac Computer 
सन 1942 ई० में पहला Computer बना जिसका ENIAC नाम था। इसका पूरा नाम Electronic Numerical Integrator and Computer था। ये कंप्यूटर John Mauchly और Eckart के द्वारा बनाया गया था। ये पहला Large Scale Electronic Digital Computer था।  इस कंप्यूटर में प्रत्येक समय प्रोग्राम बदलता रहता था। 

1. इस कंप्यूटर में आयी समस्या को हल करने के लिए  Configuration Technology add की गयी थी।
2. ये Computer एक पूरे कमरे में आता था।
3. ये मशीन 18000 vacum Tube का उपयोग करती थी। 

ENIAC को पहला सफल Electronic Digital Computer माना गया है।

Post a Comment